By: Varchasvnews
23-06-2018 07:19

जम्मू : जम्मू और कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू होने के बाद राज्यपाल एनएन वोहरा ने राज्य के सभी सरकारी कर्मचारियों के लिए बायोमेट्रिक अटेंडेंस को जरूरी कर दिया है. राजभवन द्वारा जारी एक आदेश में कहा गया है कि जो भी कर्मचारी अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए बायोमेट्रिक सिस्टम का इस्तेमाल नहीं करेगा, उसको वेतन नहीं दिया जाएगा. राज्यपाल एनएन वोहरा ने अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की समीक्षा करने के बाद ये फरमान जारी किए. 

बता दें कि 20 जून, बुधवार को राष्ट्रपति ने जम्मू और कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू किया था. राज्यपाल शासन के बाद राज्यपाल एनएन वोहरा ने आज राज्य के लिए कई निर्णय लिए. उन्होंने सुरक्षा अधिकारियों के साथ अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की समीक्षा की. समीक्षा बैठक के बाद उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि चिंता की कोई जरूरत नहीं है. सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं और यात्रा शांतिपूर्ण ढंग से जारी रहेगी. 

इसके अलावा उन्होंने राज्य के सरकारी कर्मचारियों के लिए बायोमेट्रिक अटेंडेंस को अनिवार्य बना दिया है. उन्होंने कहा कि जो भी कर्मचारी बायोमेट्रिक के लिए अपना रजिस्ट्रेशन नहीं कराएगा, उनका वेतन रोक लिया जाएगा.

इससे पहले उन्होंने शुक्रवार को सभी दलों की एक बैठक बुलाई. इस बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के प्रमुख जीए मीर, बीजेपी नेता सत शर्मा समेत अन्य दलों के नेता भी मौजूद थे. बैठक से पहले पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्यपाल से राज्य के हालात पर चर्चा की. 

विजय कुमार बने राज्यपाल के सलाहकार
भारतीय पुलिस सेवा के पूर्व अधिकारी के. विजय कुमार को राज्यपाल एनएन वोहरा का सलाहकार नियुक्त किया गया है. विजय कुमार 1975 बैच के तमिलनाडु काडर के आईपीएस अधिकारी रहे हैं. वह हाल तक केंद्रीय गृह मंत्रालय में वरिष्ठ सुरक्षा सलाहकार के पद पर थे. उन्हें 1998 और 2001 के दौरान सीमा सुरक्षा बल के महानिरीक्षक के तौर कश्मीर घाटी में कार्य करने का अनुभव है. वह 2010 और 2012 के दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के प्रमुख भी रह चुके हैं. इसके बाद उन्हें गृह मंत्रालय में वरिष्ठ सुरक्षा सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया था. 

बता दें कि जम्मू और कश्मीर की शासन व्यवस्था अब वहां के राज्यपाल एनएन वोहरा के हाथों में है. बीजेपी द्वारा पीडीपी गठबंधन सरकार से समर्थन वापस लिए जाने के बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. तीन साल चली सरकार के बाद कोई भी दल नई सरकार के गठन के लिए सामने नहीं आया. इसके बाद राज्यपाल एनएन वोहरा ने राष्ट्रपति को रिपोर्ट भेजकर राज्य में राज्यपाल शासन लगाने की अपील की थी. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्य के सभी हालातों पर विचार-विमर्श करने के बाद 20 जून को राज्यपाल शासन लगाने के आदेश जारी किए थे.
 

Related News
64x64

अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप (एडीएजी) के प्रमुख अनिल अंबानी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। उन्हें अपने कंपनी समूह के दो डायरेक्टरों को साथ जेल भी जाना पड़…

64x64

पुलवामा में आतंकी मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए मेजर विभूति ढौंडियाल की पत्नी शहीद पति को देख गर्व से भर गईं। अंतिम संस्कार के दौरान पहले उन्होंने अपने शहीद पति…

64x64

लोकसभा चुनाव में समाज के हर तबके तक पहुंचने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी छोटे-छोटे समूहों से मुलाकात कर रहे हैं। ‘अपनी बात, राहुल गांधी' के साथ अभियान के…

64x64

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए हमले के बाद कई जगहों पर कश्मीरियों का विरोध हुआ। हालांकि, इससे कश्मीरी युवाओं का जोश कम नहीं हुआ है। मंगलवार को उत्तरी कश्मीर के…

64x64

आम आदमी के सस्ते घर का सपना साकार करने के लिए सरकार आज एक बड़ा फैसला ले सकती है। आज होने वाली जीएसटी काउंसिल की बैठक में निर्माणाधीन फ्लैट्स पर…

64x64

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी के औढ़े में स्थित जनसभा स्थल पर पहुंचे, जहां भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय वाराणसी में विभिन्न विकास परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास…

64x64

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 फरवरी को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गढ़ अमेठी में होंगे। 2019 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर रायबरेली के बाद प्रधानमंत्री मोदी के अमेठी के दौरे को…

64x64

Aero India 2019 में Rafale ने बुधवार को उड़ान भरी. एयरो इंडिया शो के दौरान भारतीय वायुसेना के अधिकारियों ने Rafale विमान उड़ाया. Aero India 2019 में भाग लेने के…