By: Varchasvnews
23-06-2018 07:25

गर्मियों का मौसम है और करीब-करीब हर घर में एसी का इस्तेमाल हो रहा है. ऐसे में देश में बिजली की खपत भी तेजी से बढ़ रही है. हालांकि घर-ऑफिस में एसी का आदर्श तापमान कितना रखा जाए, इसकी जानकारी भी लोगों को कम ही होती है इसीलिए अब सरकार इसको लेकर एक नियम ला सकती है.

बिजली मंत्रालय आने वाले समय में एयर कंडीशनर (एसी) के लिए तापमान का सामान्य स्तर 24 डिग्री नियत कर सकता है.अगर ऐसा होता है तो देश भर में सालाना 20 अरब यूनिट सालाना बिजली की बचत होगी साथ ही लोगों के स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा.

बिजली और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने एयर कंडीशन (एसी) के क्षेत्र में ऊर्जा दक्षता को बढ़ावा देने का अभियान शुरू करते हुए कहा, "एयर कंडीशनर में तापमान ऊंचा करने से बिजली खपत में 6 प्रतिशत की कमी आती है."

एयर कंडीशनर बनाने वाली प्रमुख कंपनियों एवं उनके संगठनों के साथ बैठक में उन्होंने कहा, "शरीर का सामान्य तापमान 36 से 37 डिग्री सेल्सियस है लेकिन वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों, होटल तथा दफ्तरों में तापमान 18 से 21 डिग्री रखा जाता है.

यह न केवल तकलीफदेह है बल्कि वास्तव में सेहत के लिए नुकसानदेह भी है. इस तापमान में लोगों को गर्म कपड़े पहनने पड़ते हैं या कंबल का उपयोग करना होता है.

बिजली और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने बैठक में कहा कि यह वास्तव में ऊर्जा की बर्बादी है. इसको देखते हुए जापान जैसे कुछ देशों में तापमान 28 डिग्री सेल्सियस रखने के लिए नियम बनाए गए हैं.

आधिकारिक बयान के अनुसार, बिजली मंत्रालय के अधीन आने वाला ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) ने इस संदर्भ में एक अध्ययन कराया है और एयर कंडीशनर में तापमान 24 डिग्री सेल्सियस निर्धारित करने की सिफारिश की है. इस दिशा में शुरुआत करते हुए हवाईअड्डा, होटल, शापिंग मॉल समेत सभी वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों और विनिर्माताओं को परामर्श जारी किया जाएगा.

बैठक में विनिर्माताओं को एयर कंडीशन में 24 डिग्री सेल्सियस तापमान निर्धारित करने का सुझाव दिया गया. साथ ही उस पर लेबल लगाकर ग्राहकों को यह बताने को कहा गया है कि उनके पैसे की बचत और बेहतर स्वास्थ्य के नजरिए से कितना तापमान नियत करना बेहतर है. यह तापमान 24 से 26 डिग्री के दायरे में होगा.

चार से छह महीने के जागरूकता अभियान के बाद लोगों की राय जानने के लिये सर्वे किया जाएगा. उसके बाद मंत्रालय इसे अनिवार्य करने पर विचार करेगा.

अगर सभी ग्राहक इसे अपनाते हैं तो एक साल में ही 20 अरब यूनिट बिजली की बचत होगी.
बीईई का कहना है कि मौजूदा बाजार स्थिति को देखते हुए एसी के कारण देश में कुल लोड 2030 तक 200,000 मेगावाट हो जाएगी. इसमें आगे और वृद्धि की उम्मीद है क्योंकि अभी देश में केवल 6 प्रतिशत घरों में एसी का उपयोग हो रहा है.

एक अनुमान के अनुसार, अभी लगे एसी की क्षमता 8 करोड़ टीआर (टन आफ रेफ्रिजरेटर) है जो बढ़कर 2030 तक 25 करोड़ टीआर हो जाएगी.
 

Related News
64x64

अमेरिका के एक अदालत परिसर में अज्ञात बंदूकधारियों द्वारा गोलीबारी में तीन नागरिक जख्मी हो गए। उन्हें घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के बाद उनकी…

64x64

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि काशी में चल रही बड़ी परियोजनाओं से यहां के उद्योग और व्यापार के क्षेत्र में नए संभावनाओं के द्वार खुले हैं। ‘प्रयत्न से परिवर्तन’…

64x64

दिल्ली में एक भाई द्वारा अपनी ही बहन को घर में कैद रखने का मामला सामने आया है. आरोप है कि दिल्ली के रोहिणी के घर में महिला को दो…

64x64

यूपी सरकार अब बचत की और बढ़ चली है। इसके लिए सरकार ने अपने खर्चों में कटौती करने का फैसला किया है। मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय ने मंगलवार को…

64x64

रोहतक। बकरीद पर यहां टिटौली गांव में गोवंश की हत्या से खफा पंचायत ने फरमान  जारी किया है कि मुस्लिम समुदाय के लोग सार्वजनिक स्थल पर नमाज नहीं पढ़ेंगे। वे…

64x64

नई दिल्ली । 3600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर मामले में बड़ी सफलता मिली है। दुबई की एक अदालत ने इस विवादित सौदे में कथित ब्रिटिश बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल…

64x64

जम्मू-कश्मीर के रामगढ़ सेक्टर में मंगलवार को पाकिस्तान की गोलाबारी के बाद लापता हुए बीएसएफ के जवान का शव बरामद किया गया है। पाकिस्तान द्वारा मंगलवार सुबह करीब 10.40 बजे…

64x64

भारत की सबसे बड़ी लॉ फर्म सिरिल अमरचंद मंगलदास (CAM) सीबीआई जांच के घेरे में है. अधिकारियों ने 13 हजार करोड़ के पीएनबी घोटाला मामले से जुड़े दस्तावेज इस साल…