By: Varchasvnews
23-06-2018 08:36

बिलासपुर। दूषित पानी सप्लाई करने के मामले में चीफ जस्टिस टीबी राधाकृष्णन और जस्टिस शरद कुमार गुप्ता की डीबी में शुक्रवार को अलग-अलग विभागों के अधिकारी उपस्थित हुए। कोर्ट ने उनसे कहा कि दूषित पानी की समस्या गंभीर है, आप लोग ही बताएं कि इसका हल क्या हो सकता है। इसके अलावा अधिकारियों को चार सदस्यों की कमेटी बनाकर समन्वय स्थापित कर काम करने और चार जुलाई को रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आदेश दिया है।

रायपुर निवासी मुकेश देवांगन ने गर्भवती पत्नी की 2014 में पीलिया से मौत होने पर हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की है। याचिका में कहा गया कि दूषित जल के कारण उसकी पत्नी सहित अन्य को पीलिया हुआ। नागरिकों शुद्ध पानी समेत मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराना शासन का दायित्व है।

मामले में कोर्ट कमिश्नर नियुक्त कर रायपुर, बिलासपुर के पानी की जांच कर रिपोर्ट मांगी गई। रिपोर्ट में रायपुर व बिलासपुर का पानी दूषित होने की जानकारी दी गई। बार-बार निर्देश के बावजूद स्थिति में सुधार नहीं होने और तालमेल नहीं होने पर कोर्ट ने चार विभागों के अधिकारियों को व्यक्तिगत रूप से तलब किया था।

कोर्ट के बुलावे पर शुक्रवार को स्वच्छ भारत मिशन, अमृत मिशन, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन व राष्ट्रीय हेल्थ मिशन, रायपुर नगर निगम के अधिकारी सीजे की डीबी में उपस्थित हुए। अधिकारियों ने कोर्ट में कहा कि गंदे पानी की समस्या से निपटने के लिए बैठक हुई है।

आगे भी बैठक कर समस्या का निराकरण किया जाएगा। इस पर कोर्ट ने कहा कि सिर्फ बैठक से कुछ नहीं होता। शासकीय विभागों के बीच समन्वय नहीं है। कोर्ट ने अधिकारियों को कहा कि गंदे पानी की समस्या गंभीर है। आप लोग ही बताए इसका हल क्या है। कोर्ट ने सभी विभाग के अधिकारियों को कहा कि चार सदस्यों की कमेटी बनाकर काम करने और चार जुलाई को शपथ पत्र के साथ रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है।

बाक्ससेवानिवृत्त इंजीनियर की हस्तक्षेप याचिका स्वीकार

मामले में जल संसाधन विभाग के सेवानिवृत्त इंजीनियर टीजे थामस ने अधिवक्ता रोहित शर्मा के माध्यम से हस्तक्षेप याचिका दाखिल की है। इसमें कहा गया है कि दूषित पानी की समस्या गंभीर है। इसके लिए शासन को टोल फ्री नंबर जारी करना चाहिए।

उपभोक्ता इस नंबर पर दूषित पानी आने की तुरंत शिकायत कर सकते हैं। वहीं दूषित पानी का सबसे अधिक प्रभाव बच्चों पर पड़ता है। इस समस्या से निपटने उन्होंने कई सुझाव दिए हैं। कोर्ट ने उनके हस्तक्षेप याचिका को सुनवाई के लिए स्वीकार किया है।
 

Related News
64x64

रायपुर। भागदौड़ भरी जिंदगी में अब लोगों को पासपोर्ट, ईपीएफओ, ईएसआइसी, जीवन प्रमाण, माय पैन आदि के लिए केंद्रों केचक्कर लगाने की जरूरत नहीं है। इन सभी केंद्रीय योजनाओं को…

64x64

बीजापुर । जिले के वन विभाग के अधिकारियों को एक बड़ी सफलता में बड़ी सफलता मिली है। इन्द्रावती टाइगर रिज़र्व विभाग के अधिकारियों ने बीजापुर स्थित नया बस स्टैंड नाका…

64x64

रायपुर। विधानसभा चुनाव के पहले बिलासपुर में कांग्रेसियों पर हुए लाठीचार्ज कांड सोशल मीडिया पर फिर से गरमाया हुआ है। लाठीचार्ज के साथ कांग्रेसियों के लिए आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले…

64x64

रायपुर। राज्य में मनरेगा मजदूरों को 346.66 करोड़ रुपये का भुगतान लंबित है। 79 करोड़ सामग्री का भुगतान लंबित है। पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव ने सदन में विधायक केशव चंद्रा…

64x64

रायपुर। सोशल मीडिया किसी सामाजिक सूचना को बड़े दायरे में प्रसारित करने का एक बड़ा जरिया बना है, लेकिन इसका तेजी के साथ दुरूपयोग हो रहा है। फेक न्यूज के…

64x64

रायपुर। डीकेएस सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में बतौर अधीक्षक रहते हुए अंतागढ़ टेप कांड के आरोपी डॉ. पुनीत गुप्ता ने करोड़ों के काम सिर्फ बोलकर करवाए। कंपनियों ने भी प्रत्याशा में…

64x64

रायपुर। छत्तीसगढ़ में किसान अब अपनी पसंद की दुकान से कृषि से संबंधित समान खरीद सकेंगे। सरकार सब्सिडी की राशि उन्हें नगद या समान के स्र्प में देगी। विभाग की…

64x64

रायपुर। विधानसभा में सोमवार को मंत्री रविंद्र चौबे के विभागों की अनुदान मांगों पर चर्चा हुई। चौबे कृषि, जल संसाधन, संसदीय कार्य, पशुपालन, विधि विधायी और आयाकट विभाग के मंत्री…